योजनाएं लोगों के जीवन में ला रही बदलाव:मुख्यमंत्री


मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य के विकास को गति प्रदान करने के लिए सार्थक प्रयास कर रही है। हालांकि लगभग दो वर्षांे तक कोविड महामारी एक बड़ी चुनौती बनी रही और प्रदेश की आर्थिकी को भी इसने बुरी तरह से प्रभावित किया है, लेकिन राज्य सरकार ने निरन्तर एवं ईमानदार प्रयासों से विकास की गति को बनाए रखा और समाज के सभी वर्गों का कल्याण सुनिश्चित किया है।मुख्यमंत्री रविवार शाम को खबरें अभी तक न्यूज चैनल द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धियां हासिल करने वाली विभूतियों को पुरस्कृत करने के लिए आयोजित समारोह को सम्बोधित कर रहे थे।उन्होंने कहा कि कोविड की स्थिति को संभालने में हिमाचल प्रदेश अग्रणी राज्य के रूप में उभरा है और केन्द्र सरकार की सहायता एवं समर्थन से राज्य सरकार ने यह सुनिश्चित किया कि लोगों को बेहतर चिकित्सा उपचार सुविधाएं प्राप्त हों और उन्हें किसी भी तरह की असुविधा का सामना न करना पड़े। स्वास्थ्य संस्थानों में बिस्तर क्षमता बढ़ाई गई और किसी भी मरीज को ऑक्सीजन और वेंटिलेटर की कमी से नहीं जूझना पड़ा।जय राम ठाकुर ने कहा कि ट्रांसपोर्टर्स, होटल संचालकों और सरकारी कर्मचारियों को राहत पहुंचाने के लिए हर संभव प्रयास किए गए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के ईमानदार प्रयासों और प्रदेश के लोगों के सक्रिय सहयोग से हिमाचल कोविड-19 से लड़ाई में चैम्पियन बनकर उभरा है और लक्षित आबादी को शत-प्रतिशत टीकाकरण करने वाला पहला राज्य बना है।मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों, आशा वर्करों और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताआंे ने कोविड महामारी से लड़ाई में फ्रंटलाईन वर्कर की महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। प्रदेश सरकार के प्रयासों के साथ-साथ निजी अस्पतालों, गैर सरकारी संगठनों और विभिन्न संगठनों ने भी गरीब एवं जरूरतमंदों की सहायता में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया। जय राम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में पहले केवल 50 वेंटिलेटर की ही सुविधा थी और आज केन्द्र सरकार की मदद से 1000 से अधिक वेंटिलेटर उपलब्ध हैं। इसी प्रकार पहले यहां केवल दो ऑक्सीजन प्लांट थे, अब इनकी संख्या बढ़कर 48 हो गई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार राजकीय स्वास्थ्य संस्थानों में 1374 दवाएं निःशुल्क उपलब्ध करवाने के साथ ही 56 प्रकार की मुफ्त चिकित्सा जांच की सुविधा भी प्रदान कर रही है। 

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?