देवी-देवताओं के नजराने में भी 33 प्रतिशत वृद्धि करने की घोषणा


मंडी: – मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने मंडी के ऐतिहासिक पड्डल मैदान सेे विश्वविख्यात अन्तरराष्ट्रीय शिवरात्रि मेले का विधिवत् शुभारंभ किया। इससे पहले मुख्यमंत्री ने मुख्य देवता राज माधोराय के प्रसिद्ध मन्दिर में शीश नवाया तथा पारंपरिक शोभा यात्रा जलेब में भाग लिया जो श्री राज माधोराय मन्दिर से आरम्भ होकर पड्डल मैदान पर समाप्त हुई।
पारंपरिक वेशभूषा में सुसज्जित लोगों ने शोभायात्रा में स्थानीय देवी-देवताओं की पालकियों को उठाकर पड्डल मैदान तक पहुंचाया। जलेब में जिला के लगभग 216 देवी-देवताओं ने भाग लिया। मुख्यमंत्री ने पगड़ी समारोह में भी भाग लिया तथा श्री माधोराय मन्दिर में पूजा-अर्चना की।
ऐतिहासिक पड्डल मैदान में लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 के इस दौर में देवी-देवताओं के चढ़ावे में भी गिरावट आई है। इसके दृष्टिगत राज्य सरकार ने बजंतरियों के मानदेय को दोगुना करने का निर्णय लिया है। पिछले वर्ष बजंतरियों के मानदेय पर 9.52 लाख रुपये व्यय किए गए थे जबकि इस वर्ष इस पर 19 लाख रुपये व्यय किए जाएंगे।
इस अवसर पर उन्होंने देवी-देवताओं के राशन में 50 प्रतिशत वृद्धि करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष इस पर 16.38 लाख रुपये व्यय किए गए थे जबकि इस वर्ष 25 लाख रुपये व्यय किए जाएंगे।
मुख्यमंत्री ने देवी-देवताओं के नजराने में भी 33 प्रतिशत वृद्धि करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष नजराने और मानदेय के लिए 50 लाख रुपये प्रदान किए गए थे जबकि इस वर्ष इस पर 75 लाख रुपये व्यय किए जाएंगे जो प्रदेश सरकार की देव संस्कृति में अटूट श्रद्धा और विश्वास को प्रदर्शित करता है।
जय राम ठाकुर ने कहा कि मेले व त्यौहार हमारी समृद्ध संस्कृति के परिचायक हैं। मंडी शिवरात्रि की पूरे देश में एक अलग पहचान है। उन्होंने कहा कि पिछले दो वर्षों से अधिक के समय में कोरोना महामारी के कारण मेले व त्यौहारों के आयोजन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा लेकिन अब प्रदेश में कोरोना मामलों में गिरावट आई है। उन्होंने कहा कि यह देश के वैज्ञानिकों द्वारा उपलब्ध करवाई गई वैक्सीन के कारण ही संभव हो पाया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गतिशील नेतृत्व में आरम्भ विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान को सफलतापूर्वक चलाया जा रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने लगभग दो माह पूर्व अपने चार वर्ष का कार्यकाल पूर्ण किया है। ऐतिहासिक पड्डल मैदान में हुए चार साल के समारोह को प्रधानमंत्री ने अपनी गरिमामयी उपस्थिति से सुशोभित किया तथा 11500 करोड़ रुपये की विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं के शिलान्यास व उद्घाटन किए।
उन्होंने कहा कि सहारा योजना, गृहिणी सुविधा योजना, मुख्यमंत्री हिमकेयर, मुख्यमंत्री स्वावलम्बन योजना, शगुन योजना, सामाजिक सुरक्षा पेंशन इत्यादि विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं प्रदेश के लाखों लोगों के लिए वरदान सिद्ध हो रही हैं।
जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार सेवा और समर्पण की भावना से कार्य कर रही है और समाज के सभी वर्गों का कल्याण सुनिश्चित किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने मंडी में प्रदेश का दूसरा विश्वविद्यालय खोलने का निर्णय लिया है जिसे इसी शैक्षणिक सत्र से क्रियाशील कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि मंडी में 175 करोड़ रुपये की लागत से शिवधाम की स्थापना की जा रही है और इसका कार्य युद्धस्तर पर जारी है। शिवधाम का कार्य पूर्ण होने पर यह राज्य में आने वाले लोगों के आकर्षण का एक प्रमुख केन्द्र होगा। उन्होंने कहा कि तुंगल क्षेत्र के कोटली में एसडीएम कार्यालय खोला गया है और मंडी में 35 करोड़ रुपये की लागत से आज संस्कृति सदन का लोकार्पण भी किया गया है। उन्होंने कहा कि मंडी शहर में लोगों की सुविधा के लिए 100 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाली पार्किंग परियोजना का कार्य प्रगति पर है और इसे शीघ्र पूर्ण कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि शहर में 27 करोड़ रुपये के कॉलेज भवन का कार्य भी जल्द पूरा कर लिया जाएगा।
इसके उपरांत, मुख्यमंत्री ने पड्डल मेला मैदान में विभिन्न विभागों, बोर्डों, निगमों द्वारा लगाई प्रदर्शनी का शुभारंभ किया और इसमें गहन रूचि प्रदर्शित की।
मुख्यमंत्री ने महोत्सव आयोजन समिति द्वारा अन्तरराष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव पर आधारित स्मारिका का भी विमोचन किया।
इस अवसर पर उपायुक्त मंडी एवं अध्यक्ष अन्तरराष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव आयोजन समिति अरिंदम चौधरी ने मुख्यमंत्री एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि मंडी का शिवरात्रि महोत्सव प्रदेश की सांस्कृतिक विविधता का एक अनूठा उदाहरण है।
उन्होंने कहा कि इस वर्ष इस महोत्सव में 216 देवी-देवताओं को आमंत्रण दिया गया है। उन्होंने कहा कि हिमाचल की स्वर्णिम यात्रा पर आधारित प्रदर्शनी और सात सांस्कृतिक संध्याएं इस महोत्सव का मुख्य आकर्षण होंगी। 

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?