फार्मासिस्ट संघ की मांगों पर होगा सहानुभूतिपूर्वक विचार


स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा आयुष मंत्री डाॅ. राजीव सैजल ने कहा कि रोगियों को पूर्ण उपचार प्रदान करने में फार्मासिस्ट की भूमिका अत्यन्त महत्वपूर्ण है और प्रदेश सरकार हिमाचल प्रदेश अस्पताल फार्मासिस्ट संघ की विभिन्न मांगों पर सहानुभूति पूर्वक विचार कर रही है। डाॅ. सैजल आज विश्व फार्मासिस्ट दिवस के अवसर पर यहां आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे।
डाॅ. सैजल ने कहा कि फार्मासिस्ट का पदनाम फार्मासिस्ट अधिकारी तथा मुख्य फार्मासिस्ट का पदनाम मुख्य फार्मास्टि अधिकारी करने का मामला प्रदेश सरकार के ध्यान में है। उन्होंने कहा कि इन पदनामों को बदलने के विषय में शीघ्र सकारात्मक पग उठाया जाएगा।
स्वास्थ्य मंत्री ने संघ से आग्रह किया कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण के क्षेत्र में केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा कार्यान्वित की जा रही विभिन्न योजनाओं की जानकारी रोगियों को प्रदान करें। उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत, हिमकेयर तथा मुख्यमंत्री सहारा जैसी योजनाएं आमजन के लिए विशेष सहायक हैं। उन्होंने कहा कि इन योजनाआंे की उचित जानकारी मानवीय जीवन को बचाने में मददगार सिद्ध हो सकती है।
आयुष मंत्री ने कहा कि संघ को प्रदेश सरकार के साथ मिलकर यह सुनिश्चित बनाना होगा कि 30 नवम्बर, 2021 तक सभी प्रदेशवासियों को कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए टीके की दूसरी खुराक प्राप्त हो जाए।
उन्होंने कहा कि फार्मासिस्ट और रोगियों के मध्य नियमित संवाद रहता है और इस परस्पर विचार-विमर्श के माध्यम से रोगियों को योजनाओं की जानकारी के साथ-साथ दवा के उचित उपयोग की बेहतर जानकारी दी जा सकती है। उन्होंने आशा जताई कि फार्मासिस्ट पूर्व की भान्ति समर्पण एवं लगन के साथ अपना कार्य करते रहेंगे।
डाॅ. सैजल ने विश्व फार्मासिस्ट दिवस के अवसर पर सभी को बधाई एवं शुभकामनाएं प्रेषित कीं।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?