May 18, 2022

महिला को बचत, ग्रामीण जनता और बिजली उपभोक्ताओं का रखा ख़्याल

Spread the love

शिमला, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप ने कहा कि जयराम ठाकुर सरकार आम जनमानस की सरकार है प्रदेश में पिछले 50 वर्षों में 7 लाख 63 हजार पानी के कनैक्शन लगाए गए थे जबकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से चलाए गए जल जीवन मिशन के तहत हिमाचल में मात्र तीन वर्षों में 1 हजार 814 करोड़ रू0 खर्च करके 8 लाख 37 हजार कनैक्शन लगाए गए और वर्तमान समय में हिमाचल में करीब 16 लाख घरों में नल से जल पहुंच रहा है और इसमें अधिकतर कनैक्शन ग्रामीण इलाकों में लगाए गए हैं जिससे ग्रामीण क्षेत्रों की जनता को बहुत लाभ मिल रहा है। पिछले कल हिमाचल दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने ग्रामीण इलाकों के पानी के बिल माफ कर एक और तोहफा ग्रामीण क्षेत्र की जनता को दिया है। अब ग्रामीण क्षेत्रों में पानी का कोई बिल नहीं आएगा। इस पर सरकार 30 करोड़ रू0 खर्च कर रही है।
भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने 25 जनवरी, 2022 को हिमाचल के पूर्ण राज्यत्व दिवस के अवसर पर घोषणा की थी कि हिमाचल में 0 से 60 यूनिट बिजली खर्च करने पर किसी प्रकार का कोई शुल्क नहीं देना पड़ेगा। साथ ही 61 से 125 यूनिट तक बिजली इस्तेमाल करने पर बिजली शुल्क 1 रू0 55 पैसे से घटाकर 1 रू0 कर दिया था। हिमाचल दिवस के 75वें स्थापना दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बिजली उपभोक्ताओं को और राहत प्रदान करते हुए 0 से 125 यूनिट तक बिजली निशुल्क कर दी है जोकि मुख्यमंत्री का सराहनीय कदम है। इस फैंसले से प्रदेश के साढ़े 11 लाख बिजली उपभोक्ताओं को सीधा लाभ मिलेगा।
सुरेश कश्यप ने कहा कि महिला सशक्तिकरण के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने महिलाओं को हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों में यात्रा करने पर किराये में 50 प्रतिशत की कटौती करने की घोषणा कर प्रदेश की माताओं, बहनों को बेहतरीन तोहफा दिया है। प्रदेश की महिलाएं रोजगार एवं अन्य दैनिक कार्यों के लिए जब भी यात्रा करेगी उनका आधा किराया लगेगा।
भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि वर्तमान जयराम सरकार ने कोविड महामारी के कारण प्रदेश की आर्थिकी प्रभावित होने के बावजूद भी प्रत्येक वर्ग के लिए कल्याणकारी योजनाएं चलाकर प्रदेश का सर्वांगीण विकास कर रही है। उन्होनें कहा कि अगर सामाजिक सुरक्षा पैंशन की बात करें तो वर्तमान जयराम सरकार ने न सिर्फ पैंशन के लिए आयु सीमा घटाई बल्कि आय सीमा को खत्म करते हुए हर वर्ग को मिलने वाली पैंशन की राशि में भी बढ़ौतरी की है। अपने 4 वर्ष और 2 माह के कार्यकाल में जयराम सरकार ने वृद्धावस्था पेंशन की आयु सीमा 60 वर्ष की है। उन्होनें कहा कि 60-69 वर्ष के पुरूष एवं 60-65 वर्ष की महिलाओं को 1000 रू0 वृद्धावस्था पेेंशन दी जा रही है। इसी प्रकार 70 वर्ष व इससे अधिक आयु के वृद्धजनों को 1700 रू0 पेंशन दी जा रही है।
सुरेश कश्यप ने कहा कि सरकार ने कर्मचारियों को नया वेतनमान देकर कर्मचारी हितैषी होने का प्रमाण दिया है। साथ ही अनुबंध कर्मचारियों का अनुबंध काल 3 वर्ष से घटाकर 2 वर्ष किया दिया है जिससे कि विभिन्न विभागों में अनुबंध पर कार्यरत कर्मचारियों को 2 वर्ष का अनुबंध काल पूर्ण होने पर नियमित किया जा रहा है जिससे प्रदेश का कर्मचारी वर्ग खुश है।
भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि जयराम सरकार ने पैरावर्करो के मानदेय में बढ़ौतरी कर उन्हें आर्थिक रूप से सशक्त करने का प्रयास किया है। फिर चाहे आंगनवाड़ी कार्यकर्ता हो, आशा वर्कर हो, मिड-डे मिल वर्कर हों या वाटर कैरियर हों सभी का मानदेय बढ़ाकर उनकी आर्थिकी को सुदृढ़ करने के लिए सकारात्मक कदम उठाया हैं। कई वर्गों का मानदेय तो हमारी सरकार ने लगभग दोगुना कर दिया है। न्यूनतम दिहाड़ी में 50 रू0 की बढ़ौतरी कर अब 350 रू0 किया गया है जिससे दैनिक भोगियों को सीधा-सीधा लाभ मिलेगा।
सुरेश कश्यप ने कहा कि अपने लगभग साढ़े चार वर्षों के कार्यकाल में जयराम सरकार ने प्रदेश के प्रत्येक वर्ग के लिए काम करके सर्ववर्ग हितकारी होने का प्रमाण दिया है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने उपरले हिमाचल और निचले हिमाचल का भेद मिटाकर पूरे प्रदेश का एक समान विकास किया है। उन्होनें कहा कि वर्तमान जयराम सरकार जिस प्रकार से हिमाचल प्रदेश की जनता की निष्काम सेवा कर रही है, निश्चित तौर से वर्ष के अंत में होने वाले विधान सभा चुनावो में एक बार पुनः भाजपा प्रदेश में भारी बहुमत के साथ सरकार बनाएगी।