October 21, 2021

Himachalreport.com

in search of truth

पंकज शर्मा ने भी अपनी दावेदारी पेश की

हिमाचल प्रदेश में उपचुनावों की तिथियों का ऐलान होते ही टिकट तलबगारों की सूची लगातार बढ़ती जा रही है.उपचुनावों के ऐलान के बाद भले ही दोनों बड़े राजनीतिक दल टिकट को लेकर प्रत्याशियों की सूची तैयार कर रही है लेकिन श्राद के चलते दोनों राजनीतिक दलों ने प्रत्याशियों को लेकर अपने पत्ते नहीं खोले हैं.प्रदेश की तीन विधानसभा सीटों और एक लोकसभा सीट के लिए होने वाले चुनावों के लिए भाजपा और कांग्रेस की ओर से कई उम्मीदवारों ने अपनी दावेदारी पेश की है लेकिन अब टिकट पर अंतिम फैसला पार्टी हाइकमान को लेना है.वैसे तो विधानसभा के लिए सभी हॉट सीटें बनी हैं लेकिन अर्की विधानसभा सीट पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत वीरभद्र सिंह के निधन के बाद खाली हुई है जिससे यह सीट सबसे हॉट सीट बनी है. जिसमें कांग्रेस और भाजपा की ओर से कई दावेदार अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं.भाजपा की ओर से गोविंद शर्मा और रत्नपाल जहां दो बड़े चेहरे हैं वहीं अब भाजपा की ओर से युवा नेता पंकज शर्मा ने भी अपनी दावेदारी पेश की है.पंकज शर्मा 1996 से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े हुए हैं जो करीब 20 वर्षों से लगातार संगठन का कार्य विभिन्न पदों पर रहते हुए कर रहे हैं. इसके अलावा स्वदेशी बचाओ अभियान में पंकज शर्मा ने अहम भूमिका निभाई है.पंकज शर्मा अर्की विधनासभा के अंतर्गत आने वाले शमेली गांव दाड़लाघाट के रहने वाले हैं जिनका युवाओं,बुजुर्गों और महिलाओं में खासा रुतबा है.अपनी लंबी चौड़ी रिश्तेदारी और राजनितिक पहुंच के चलते वे अब पार्टी से टिकट का दावा ठोंक रहे हैं.पंकज शर्मा का कहना है कि भारत युवाओं का देश है जहां करीब 80 फीसदी जनता युवा है.इसलिए युवा चेहरे को मौका मिलना चाहिए उन्होंने कहा कि अर्की विधानसभा सोलन एक बड़ा विधानसभा क्षेत्र है जहाँ अभी भी कई विकासकार्य होने हैं.विधानसभा क्षेत्र में अभी भी कई ऐसे गांव हैं जहां सड़कों,स्वास्थ्य, शिक्षा और खेल मैदान के अलावा जो भी सुविधाओं का अभाव है उन्हें बढ़ावा देने की जरूरत है.उन्होंने कहा कि वे पिछले करीब 25 सालों से पार्टी और संगठन के साथ काम कर रहे हैं लेकिन अब एक मौका मिला है जिसे वे अब भुनाने के लिए तैयार हैं.उन्होंने कहा कि पार्टी हाइकमान अगर उन्हें टिकट देती है या प्रत्याशी घोषित करती है तो वे निश्चित ही चुनाव जीतेंगे.