02 घण्टे के भीतर प्रदान करनी होगी दवा की किट

Spread the love

उपायुक्त सोलन केसी चमन ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग को निर्देश दिए हैं कि होम आईसोलेशन में रखे गए कोविड-19 पाॅजिटिव रोगियों को आरटीपीसीआर परीक्षण रिपोर्ट मिलने के 02 घण्टे के भीतर दवा की किट उपलब्ध करवाना सुनिश्चित बनाएं। केसी चमन आज सोलन जिला में होम आईसोलेशन में रखे गए कोविड-19 पाॅजिटिव रोगियों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध करवाने के सम्बन्ध में आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। 
केसी चमन ने कहा कि सम्बन्धित खण्ड चिकित्सा अधिकारियों को कोविड-19 पाॅजिटिव रोगियों की आरटीपीसीआर रिपोर्ट प्राप्त होने के उपरान्त 15 मिनट के भीतर सम्बन्धित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सा अधिकारी को पहुंचानी सुनिश्चित बनानी होगी। उन्होंने कहा कि होम आईसोलेशन में रह रहे कोविड रोगियों के लिए दवा की किट प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र स्तर पर उपलब्ध होनी चाहिएं। यदि पाॅजिटिव रोगियों की सूची सांय 7.00 बजे के बाद प्राप्त होती है तो दवा की किट अगले दिन प्रातः पहुंचाना सुनिश्चित किया जाएगा।
उपायुक्त ने कहा कि बहुमूल्य मानव जीवन को बचाने के लिए विभिन्न स्तरों पर समन्वय के साथ कार्य किया जाना आवश्यक है। उन्होंने निर्देश दिए कि इस कार्य के लिए सभी उपमण्डलों में ग्राम पंचायत स्तर तक टीमें गठित की जाएं। इन टीमों में सम्बन्धित ग्राम पंचायत प्रधान एवं उप प्रधान को भी सदस्य बनाया जाए। उन्होंने कहा कि जिला स्तर के साथ-साथ सम्बन्धित उपमण्डलाधिकारी, सम्बन्धित खण्ड विकास अधिकारी, सम्बन्धित खण्ड चिकित्सा अधिकारी एवं अन्य चिकित्सा कर्मी, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के कर्मियों और अन्य सम्बद्ध विभागों को पूर्ण समन्वय के साथ कार्य करना होगा।
सम्बन्धित उमण्डलाधिकारी अपने क्षेत्र की आवश्यकताआंे के अनुरूप ग्राम पंचायत स्तर तक टीमों का गठन करेंगे। यह टीमें होम आईसोलेशन में रह रहे पाॅजिटिव रोगियों की चिकित्सा सम्बन्धी आवश्यकताओं को पूरा करने के साथ-साथ आवश्यकता पड़ने पर रोगी वाहन उपलब्ध करवाना इत्यादि जैसी जरूरतों का ध्यान भी रखेंगी।
केसी चमन ने कहा कि यदि होम आईसोलेशन में रह रहे सभी रोगियों को समय पर दवा किट उपलब्ध करवाई जाए तो रोग को गम्भीर होने से रोककर दुःखद मृत्यु को टाला जा सकता है। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी ग्राम पंचायतों एवं स्थानीय शहरी निकायों में सामान्य सर्दी, जुखाम एवं बुखार के लक्षण युक्त रोगियों का समुचित उपचार सुनिश्चित बनाया जाए।
उपायुक्त ने निर्देश दिए कि आपात स्थिति में रोगी का प्रथम उपचार समीप के सामुदायिक अथवा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर सुनिश्चित बनाया जाए ताकि रोगी वाहन मिलने से पूर्व उसकी स्थिति स्थिर बनी रहे। उन्होंने कहा कि गत दिवस ही 25 आॅक्सीजन कन्सट्रेटर जिला के दूरदराज स्थित स्वास्थ्य केन्द्रों में पहुंचाएं गए हैं। उन्होंने कहा कि कोविड-19 प्रबन्धन के लिए जिला सहित उपमण्डल स्तर पर 24×7 काॅल सेंटर कार्यशील हैं।