75 हजार पीपीई किट्स एवं मास्क मंगलवार सायं तक पहुंचेगे शिमला

जय राम ठाकुर ने कहा आक्सीजन संयंत्रों की सुविधा मिलने से इन मेडिकल काॅलेजों और अस्पतालों में दाखिल मरीजों को निर्बाध आॅक्सीजन आपूर्ति सुनिश्चित होगी। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने राज्य को 75 हजार पीपीई किट्स एवं 75 हजार एन-95 मास्क उपलब्ध करवाए हैं जो मंगलवार सायं तक शिमला पहुंच जाएंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश के स्वास्थ्य संस्थानों में कुल 3670 बिस्तरे उपलब्ध हैं जिनमें से 1819 पर मरीज दाखिल हैं। राज्य में लगभग 244 आईसीयू बिस्तर और 1804 आॅक्सीजनयुक्त बिस्तर हैं जिनमें से 349 बिस्तर अभी खाली हैं।
जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 के मामलों में तेजी से हो रही वृद्धि को देखते हुए राज्य सरकार बिस्तरों की क्षमता को लगातार बढ़ा रही है। अस्थाई अस्पतालों के कार्य में तेजी लाकर अगले कुछ दिनों में बिस्तरों की क्षमता को 1100 तक बढ़ाया जाएगा। सोलन, मण्डी और ऊना जिला के पंडोगा में 200-200 बिस्तरों की अतिरिक्त सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी जबकि कांगड़ा जिला के परौर में 500 बिस्तरों की अतिरिक्त व्यवस्था की जा रही है। नालागढ़ में 60 बिस्तरों, ऊना जिला के पलकवाह में 100 बिस्तरों, आईजीएमसी शिमला में 23 बिस्तरों और टांडा में 66 बिस्तरों की सुविधा वाले मेक शिफ्ट अस्पताल पहले ही शुरू हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि मेडिकल काॅलेज नेरचैक में अगले दो दिनों में 100 बिस्तरों की क्षमता वाला अस्थाई अस्पताल तैयार हो जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने कोविड-19 मरीजों को हेल्थ किट उपलब्ध करवाने का भी निर्णय लिया है। इस किट में काड़ा, च्यवनप्राश, फेस मास्क, सेनिटाइजर, थर्मामीटर, मल्टी विटामीन की गोलियां और आयूष इम्यूनिटी बुस्टर शामिल होंगे।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?