May 18, 2022

अहम भूमिका निभा रही मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजनाः जय राम ठाकुर

Spread the love

मुख्यमंत्री ने बाहरा विश्वविद्यालय में हिमाचल प्रदेश निजी शिक्षण संस्थान नियामक आयोग द्वारा आयोजित संयुक्त प्लेसमेंट अभियान कार्यक्रम को सम्बोधित किया

प्रदेश सरकार यह सुनिश्चित कर रही है कि हिमाचल प्रदेश के युवा रोजगार के पीछे भागने की बजाय रोजगार प्रदाता बन सकें। यह बात मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज सोलन जिला के वाकनाघाट स्थित बाहरा विश्वविद्यालय में हिमाचल प्रदेश निजी शिक्षण संस्थान नियामक आयोग द्वारा आयोजित संयुक्त प्लेसमेंट अभियान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही।
मुख्यमंत्री ने कहा कि संयुक्त प्लेसमेंट अभियान का आयोजन करना वास्तव में एक सराहनीय कदम है, जो राज्य के निजी और सरकारी शिक्षण संस्थानों में शिक्षा ग्रहण करने वाले विद्यार्थियों को रोजगार के अवसर प्राप्त करने में एक मंच प्रदान करेगा। उन्होंने आशा व्यक्त की कि इससे अधिक से अधिक विद्यार्थियों को उनकी योग्यता के अनुसार रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे। उन्होंने कहा कि इस संयुक्त प्लेसमेंट अभियान में विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों, आईटीआई और पॉलिटेक्निक संस्थानों को शामिल किया गया है। अभियान में भाग लेने वाली लगभग 50 बड़ी कम्पनियों में अच्छे पैकेज पर सैकड़ों युवाओं का चयन किया जाएगा।
जय राम ठाकुर ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार नेयुवा उद्यमिता को प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना आरम्भ की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा यह योजना अपना व्यवसाय शुरू करने के इच्छुक 18 से 45 वर्ष की आयुवर्ग के युवाओं और 50 वर्ष तक की महिलाओं के लिए आरम्भ की गई है। उन्होंने कहा कि इस योजना के अन्तर्गत एक करोड़ रुपये तक का ऋण प्रदान किया जा रहा है, जिसके तहत युवाओं को उद्योग स्थापित करने के लिए 25 से 30 प्रतिशत उपदान प्रदान किया जाता है। अब प्रदेश सरकार ने महिलाओं और विधवाओं को 35 प्रतिशत उपदान देने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत अब तक हिमाचल में 3758 इकाइयां स्थापित की जा चुकी हैं और 10,253 लोगों को उनके घरद्वार के समीप रोजगार उपलब्ध हुआ है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश शिक्षा के क्षेत्र में प्रगति के पथ पर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि राज्य में 17 निजी विश्वविद्यालय स्थापित किए गए हैं और इससे हिमाचल देश का शिक्षा केंद्र बन गया है। उन्होंने कहा कि इस एक दिवसीय प्लेसमेंट ड्राइव के दौरान 1000 से अधिक लोगों को रोजगार उपलब्ध करवाया जाएगा।
जय राम ठाकुर ने इस भव्य आयोजन में भाग लेने के लिए उद्यमियों को का आभार व्यक्त किया, जिसके माध्यम से राज्य के युवाओं को रोजगार के अवसर प्राप्त हुए हैं।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने हिमाचल प्रदेश निजी शिक्षण संस्थान विनियमन आयोग की ऑनलाइन सूचना प्रबंधन प्रणाली दिशा का भी शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि इस प्रणाली के क्रियान्वयन से निजी विश्वविद्यालयों और संस्थानों से संबंधित जानकारी, स्टाफ, पाठ्यक्रम, सुविधाएं, डिग्री से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि इससे न केवल स्थानीय लोग को बल्कि प्रशिक्षण संस्थानों के विद्यार्थी भी लाभान्वित होंगे।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने चयनित विद्यार्थियों को जॉब ऑफर लैटर प्रदान किये।
उन्होंने इस प्लेसमेंट ड्राइव में पंजीकृत उम्मीदवारों के साथ संवाद भी किया।
इससे पहले मुख्यमंत्री ने विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि निजी विश्वविद्यालयों को मादक पदार्थों के सेवन के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए एक प्रणाली विकसित करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि परिसर में अनुशासन की अनुपालना सुनिश्चित की जानी चाहिए और विद्यार्थियों के व्यवहार की निगरानी की जानी चाहिए। उन्होंने निजी विश्वविद्यालयों को विभिन्न क्षेत्रों में अनुसंधान कार्य को प्रभावी ढंग से आरम्भ करने के लिए राज्य सरकार की ओर से हर संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया।
उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार ने निजी कंपनियांे में हिमाचल के युवाओं को कम से कम 80 प्रतिशत रोजगार सुनिश्चित किया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वाबलंबन योजना से प्रदेश के युवा लाभान्वित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भी अपनी रैंकिंग में सुधार करते हुए 16वें स्थान से 7वें स्थान पर पहुंचा है। उन्होंने कहा कि राज्य के लिए चिकित्सा उपकरण पार्क स्वीकृत किया गया है और यह बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ क्षेत्र में स्थापित किया जा रहा है।
शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि यह प्लेसमेंट ड्राइव विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय परिसर में ही अपनी पसंद की रोजगार के अवसर प्रदान करेगी। उन्होंने कहा कि यहां लगभग 50 कंपनियां कैंपस इंटरव्यू में भाग लेकर संभावित उम्मीदवारों का चयन कर रही हैं।
इस अवसर पर नियामक आयोग के अध्यक्ष मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) अतुल कौशिक ने मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि यह प्लेसमेंट ड्राइव मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की प्रेरणा से आयोजित की गई है। उन्होंने कहा कि इस प्लेसमेंट ड्राइव के लिए 1600 से अधिक युवाओं ने अपना पंजीकरण करवाया है। उन्होंने कहा कि यह एक सराहनीय प्रयास है कि विश्वविद्यालय के परिसर में ही विभिन्न औद्योगिक घरानों द्वारा उम्मीदवारों का चयन किया जाएगा।
आयोग के सदस्य डॉ. शशिकांत शर्मा ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
सोलन से भाजपा नेता डॉ राजेश कश्यप, हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास बोर्ड की उपाध्यक्ष रशिम धर सूद, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के सदस्य डॉ. नागेश ठाकुर, बाहरा विश्वविद्यालय के कुलपति गुरविंदर बाहरा, विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपतियों सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे