मुख्यमंत्री ने किया मनाली में विंटर कार्निवल का शुभारंभ

Spread the love

मनाली

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज मनाली के प्रसिद्व हिडिम्बा मंदिर में पूजा अर्चना करके, परिधि गृह मनाली से कार्निवल परेड को हरी झंडी दिखाकर राष्ट्र स्तरीय पांच दिवसीय विंटर कार्निवल का शुभारम्भ किया। इसके पश्चात् मुख्यमंत्री ने लगभग 41 करोड़ रुपये से अधिक लागत की विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं के लोकार्पण व शिलान्यास किए और राज्य स्तरीय स्वर्णिम वन महोत्सव का उदघाटन किया।

मुख्यमंत्री ने 16.93 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित रामशीला उच्च मार्ग से भेखली-जिन्दौड़-ब्यासर सड़क, 3.97 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित मढ़ी-गधेरनी-शलीण सड़क, 1.78 करोड़ रुपये की लागत से हरीपुर नाला पर निर्मित पुल, अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण एवं संबद्व खेल संस्थान मनाली के आर्टिफिशियल राॅक क्लाईबिग वाॅल तथा 50 लाख रुपये की लागत से बने वन परिक्षेत्र कार्यालय मनाली का लोकार्पण किया। इसके अतिरिक्त उन्होंने 3 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित नेचर पार्क ब्यास-बिहाल तथा 26 लाख रुपये की लागत से निर्मित स्वर्णिम वाटिका कोठी का लोकार्पण तथा 30 लाख रुपये की लागत से बनने वाले हामटा-छिक्का वन निरीक्षण मार्ग का शिलान्यास, 89 लाख रुपये की लागत से निर्मित होने वाले खनौरा नाला पर जीप योग्य पुल तथा 12 करोड़ रुपये से बाहंग में ब्यास नदी पर बस योग्य पुल का शिलान्यास भी किया।

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने इस अवसर पर मनु रंगशाला में दीप प्रज्ज्वलित करके शरद उत्सव में आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों का शुभारम्भ किया।

जय राम ठाकुर ने इस अवसर पर जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि घाटी में नए पुलों व सड़कों के निर्मित हो जाने से विभिन्न स्थान पर्यटक स्थलों के रूप में विकसित होंगे, जिससे क्षेत्र मंे पर्यटन कारोबार को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि राॅक क्लाईविंग वाल के निर्मित होने से साहसिक खेलों में रूचि रखने वाले पर्यटकों को सुविधा मिलने से मनाली में साहसिक पर्यटन गतिविधियां सुदृढ़ होगी। ब्यास बिहाल नेचर पार्क बनने से पर्यटकों को स्वच्छ व सुन्दर प्राकृतिक वातावरण उपलब्ध होने के साथ-साथ स्थानीय लोगों को रोजगार के अवसर भी प्राप्त होंगे।

उन्हांेने कहा कि वनों के महत्व के दृष्टिगत प्रदेश सरकार वन क्षेत्र के विस्तार और सदृढ़ीकरण को प्राथमिकता दे रही है। गत चार वर्षो में प्रदेश में वन महोत्सव के दौरान 4 करोड़ 38 लाख 12 हजार पौधों का रोपण किया गया।

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने इस अवसर पर महिला मंडलों, विभिन्न विभागों, संस्थाओं द्वारा प्रस्तुत की गई झांकियों का अवलोकन भी किया। झांकियों के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण, स्वच्छता, प्राचीन विरासत, मान्यताओं, नशा मुक्ति, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, कोविड संक्रमण से बचाव, टीकाकरण, महिला सशक्तिकरण, प्राकृतिक खेती आदि विषयों का संदेश दिया गया।

उन्होंने काथी नाला पर पुल निर्माण के लिए 2 करोड़ 50 लाख रुपये, ग्राहण गांव में बनने वाले पुल के लिए 1.22 करोड़ रुपये, राजकीय उच्च विद्यालय जिन्दौड़ को वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला तथा माध्यमिक पाठशाला मेहा को उच्च पाठशाला में स्तरोन्नत करने की घोषणा की। उन्होंने विंटर कार्निवल आयोजन के लिए अपनी ऐच्छिक निधि से 10 लाख रुपये देने की भी घोषणा की।

उन्होंने यूरोप के माॅनटेनिगरो में आयोजित हुई अंतरराष्ट्रीय स्कीइंग प्रतियोगिता में कांस्य पदक हासिल करने पर मनाली की आंचल ठाकुर को सम्मानित भी किया।

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने इस अवसर पर कहा कि पर्यटन नगरी मनाली में आयोजित होने वाला शरद उत्सव पर्यटन, व्यापार, पारम्परिक मान्यताओं व समृद्व संस्कृति के संरक्षण के दृष्टिगत महत्वपूर्ण है। उत्सव के माध्यम से विभिन्न राज्य के कलाकारों को अपनी कला का प्रदर्शन करने के लिए सशक्त मंच उपलब्ध होता है।

उन्होंने मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर का घाटी में करोड़ों रुपये की विकासात्मक परियोजनाओं के लोकार्पण व शिलान्यास करने तथा घाटी में हुए विकास कार्यों के लिए आभार व्यक्त किया।

इस अवसर पर नगर परिषद के अध्यक्ष चमन कपूर ने मुख्यमंत्री तथा अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया ।

इस अवसर पर बंजार के विधायक सुरेन्द्र शौरी, एचपीएमसी के उपाध्यक्ष राम सिंह, सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर खुशहाल ठाकुर, प्रदेश भाजपा की उपाध्यक्ष धमेश्वरी ठाकुर, नगर परिषद के सदस्य, उपायुक्त आशुतोष गर्ग, पुलिस अधीक्षक गुरदेव शर्मा, एसडीएम मनाली सुरेन्द्र ठाकुर, जिला भाजपा अध्यक्ष भीम सेन शर्मा, जिला परिषद सदस्य एवं कुश्ती संघ के प्रदेश अध्यक्ष चंद्र मोहन, पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधि, जिला व भाजपा मंडी के विभिन्न पदाधिकारी भी उपस्थित थे।